गुरुवार, 17 मई 2007

क्या हुआ मुझको


Rings, originally uploaded by Manny Pabla.

.
.
जो करती थी पसंद मुझको
मुझे बिलकुल नही भाती
जिसे मै ठीक कहता हुँ
वो ना ना कह के है जाती

तुम्हे जब देखने आया
पता ना क्या हुआ मुझको
जिधर देखू मुझे तेरी
ही सूरत है नज़र आती

तुषार जोशी, नागपुर

1 टिप्पणी:

  1. तुषारजी,

    इसके भाव तो ऊपर से ही निकल गये, कुछ भी समझ में नहीं आया है :)

    उत्तर देंहटाएं