शनिवार, 12 मई 2007

अमलताश के फूल


Ratchaphruek, originally uploaded by dinesh_valke.

.
.
अमलताश के फूल तुम्हारी
मधुर सादगी के लिये
इन ताज़ा मुस्कानों जैसी
स्वर्णिम जिंदगी के लिये

अमलताश के फूल नहीं यें
बच्चे हैं ठिठोली करते
जिवन की इस बगिया को
निर्मल सी हँसी से भरते

अमलताश के फुलों जैसा
जिवन खुशियों से भर जाए
एक दो पत्तियों जैसा
दुख बस थोडासा रह जाए

तुषार जोशी, नागपुर

3 टिप्‍पणियां:

  1. अमलताश के फुलों जैसा
    जिवन खुशियों से भर जाए
    एक दो पत्तियों जैसा
    दुख बस थोडासा रह जाए

    बहुत अच्छी लगी मुझे यह पंक्तियाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. Hi Tushar,
    I feel honoured to see one of my picture becoming a subject of interest.

    And that it is perceived poetically is very simply confirming Mother Nature's infinite beauty.

    Your poetic charm has enhanced the beauty of this picture.

    My best wishes.
    Dinesh.

    उत्तर देंहटाएं