रविवार, 13 मई 2007

चिठ्ठी


more orange than pink..., originally uploaded by `daksha.

.
.
साडी देखी वही स्टाल पर
हाथ तेरा महसूस हुआ
कितने दिनसे मिला ना तुझको
मन मेरा मायूस हुआ

छुट्टी लेकर जल्दी ही
मैं तुमको मिलने आजाऊँ
सोच रहा हूँ तेरे वासते
साडी ये ही खरिद लाऊँ

छोटी छोटी बातों से भी
याद आती हो तुम मैना
यहाँ मैं खुश हूँ याद में तेरी
तुम चिठ्ठी पढना खुश रहना

तुषार जोशी, नागपुर

2 टिप्‍पणियां:

  1. आप ऐसा भी लिखते है,..बहुत अच्छा है,..मैना कोन है जर बताईये,..:)
    सुनीता(शानू)

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी रचना है। वास्तविकता झलकती है।


    छोटी छोटी बातों से भी
    याद आती हो तुम मैना
    यहाँ मैं खुश हूँ याद में तेरी
    तुम चिठ्ठी पढना खुश रहना

    उत्तर देंहटाएं