शुक्रवार, 8 जून 2007

तुझमें है


group effort, originally uploaded by amrita b.

.
.
तुम कर लोगे
करने की शक्ति तुझमें है
सब समझ जाओगे
सृजनशील युक्ति तुझमें है

प्रगती के पाठ
हम गिरकर ही सिखतें हैं
जो गिरकर उठतें है
वें ही आखिर तक टीकते हैं
तुझे यश मिलेगा
प्रयत्नशील वृत्ति तुझमें है

तुम कर लोगे
करने की शक्ति तुझमें है

जब जमता नही है
मन मायूस होता है
विश्वास रखो होगा होगा
कहो तो हँसता है
तुझे विश्वास होगा
सद्विवेक बुद्धि तुझमें है

तुम कर लोगे
करने की शक्ति तुझमें है

तुषार जोशी, नागपुर

8 टिप्‍पणियां:

  1. तुषार जी चित्र तो कमाल का आपने लगाया ही है शब्द भी बडे प्रेरक खीचें हैं।

    सब समझ जाओगे
    सृजनशील युक्ति तुझमें है

    बहुत खूब।

    *** राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी कविता ...अच्छा लगा पढ़कर...बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. टिप्पणी प्राप्त करने के लिये एक प्रयास। मुझे देखना है के ब्लागर द्वारा किस पते से इस टिप्पणी की जानकारी मुझे मिलती है। उस पते को मै गुगल समूह में जोड दुंगा।

    (प्रयोगशील)
    तुषार

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुझे इससे ये पता चला कि ब्लागर जिस पते से मेल भेजता है वो है noreply-comment@blogger .com मैने उसे मेरे गुगल समूह का सदस्य बना दिया और अब यह टिप्पणी मुझे गुगल समूह में पढने मिलने की संभावना है। देखते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. somehow the comment didnt appeared on the group last time, trying again

    उत्तर देंहटाएं
  6. Oops the noreply-comment@blogger.com member was not having posting permission, my mistake :(

    I have set the permission and this message is likely to be read in the group also :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. Now new method, this mail is now set to kavitaa-tippani@hindyugm.com, that address forwards it to the group mail

    उत्तर देंहटाएं
  8. Google groups are not suitable for this technique trying with Yahoo groups now ;)

    उत्तर देंहटाएं