शुक्रवार, 8 जून 2007

डर


stomp, originally uploaded by amrita b.

.
.
अपयश एक अवस्था है
समझें तो डर जाता रहता है
अपयश को मुह चिढाने का
मन में बल आता रहता है

भले परिस्थिती भयपूर्ण रूप ले
और धडकने बढाए हमारी
हमने कस कर पकड रखनी है
आत्मविश्वास की अपनी डोरी

अपयश स्वप्न राक्षस है
जब ये समझ लेते हो
उसके बाद सारी रात
घोडे बेच कर सो सकते हो

तुषार जोशी, नागपुर

2 टिप्‍पणियां:

  1. अपयश स्वप्न राक्षस है
    जब ये समझ लेते हो
    उसके बाद सारी रात
    घोडे बेच कर सो सकते हो

    शब्द में दर्शन है और चित्र में काव्य।

    *** राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह भाई ..कविता और चित्र दोनों अच्छे लगे

    उत्तर देंहटाएं